सबसे बड़ा उपाय

- Advertisement -

More articles

- Advertisement -

सबसे बड़ा उपाय:- एक भिखारी दिनभर भीख मांगकर उसका गुजार करता था। कभी तो उसे भी मिल जाती, तो कभी उसे भूखे ही रहना पड़ता। एक दिन उसने सोचा,”आज मैं गांव के मुखिया से भीख मांगता हूं। उसके पास बहुत कुछ है।” जब वह मुखिया के घर पहुंचा तो उसे पता चला कि मुखिया तो राजा के पास सहायता मांगने गया है। भिखारी ने सोचा- रोज-रोज रोज भीख मांगने से अच्छा है कि वह स्वयं ही राजा से भीख मांग ले।

सबसे बड़ा उपाय

अतः वह राजा से भीख मांगने राजमहल की ओर चल पड़ा। मार्ग में ही एक बहुत विशाल मंदिर था। वहां बहुत भीड़ लगी हुई थी। भिखारी ने भीड़ लगने का कारण पूछा तो पता चला कि राजा अपने परिवार के साथ भगवान के दर्शन के लिए आए हुए हैं। वह मंदिर के बाहर खड़ा होकर राजा की प्रतीक्षा करने लगा।

राजा ने भगवान की आरती की तथा हाथ जोड़कर प्रार्थना की,” हे भगवान,आप बड़े दयालु हैं। मुझ पर कृपा रखना तथा मेरे भंडार सदैव भरे रखना।” यह सुनकर भिखारी को बहुत आश्चर्य हुआ। उसने तुरंत राजा से भीख मांगने का विचार त्याग दिया। उसने सोचा,” जब राजा खुद भगवान से मांग रहा है तो मैं स्वयं भगवान से क्यों ना मांगू।” फिर भिखारी ने मंदिर के अंदर जाकर भगवान से सुखी रहने का आशीर्वाद मांगा।

अतः सुखी रहने का सबसे बड़ा उपाय मेहनत करना है।

- Advertisement -

MOST POPULAR ARTICLES

TRENDING NOW

Latest

- Advertisement -