आलस सबसे खतरनाक बीमारी है

- Advertisement -

More articles

- Advertisement -

आलस सबसे खतरनाक बीमारी है:- मोनू खरगोश बहुत आलसी था। उसकी इस आदत से उसके माता-पिता बहुत परेशान रहते थे। वे सदैव उसको समझाते रहते थे,”मोनू इतना आलस मत किया करो वरना 1 दिन तुम्हें अपने आलस के कारण पछताना पड़ सकता है।”परंतु माता- पिता की इन बातों से उसके कानों पर जूं नहीं रेंगती थी। 1 दिन वह एक पेड़ के नीचे लेट कर धूप सेक रहा था जबकि उसके अन्य मित्र मैदान में खेल रहे थे।

आलस सबसे खतरनाक बीमारी हैआलस सबसे खतरनाक बीमारी है

तभी उन्होंने एक भेड़िए को आते देखा। मोनू को मित्रों ने मोनू के भेड़िए के प्रति चिल्ला – चिल्ला कर सचेत किया और तुरंत वहां से भाग गए। आलसी मोनू सोचने लगा,”भेड़िया तो अभी बहुत दूर है, हो सकता है कि शायद वह मुझे देख ही न पाए। क्यों व्यर्थ यहां से भांगू, जब भेड़िया पास आएगा तो देखा जाएगा।”भेड़िए ने मोनू को देख लिया था। वह दबे पैर उसकी ओर बढ़ता गया – बढ़ता गया और अचानक उसके सामने जाकर खड़ा हो गया।

भेड़िए को अपने इतने पास देखकर मोनू के होश उड़ गए। परंतु अब वह इस स्थिति में भी नहीं था कि वहां से भाग सके। भेड़िए ने उस पर झपट्टा मारा और मोनू के आलस के कारण भेड़िया उसे मारकर खा गया।

अतः इसलिए ही तो कहा गया है अलसी का कभी हित नहीं हो सकता।

- Advertisement -

MOST POPULAR ARTICLES

TRENDING NOW

Latest

- Advertisement -